Home » , » Aurat Lyrics | Raftaar

Aurat Lyrics | Raftaar

Written By chetan Pitroda on Monday, 16 January 2017 | 21:35:00

Aurat Lyrics | Raftaar

Dedicated to all the strong women of India.


I pledge to be a real MARD.












Aurat Lyrics | Raftaar


Baatein baatein baatein
Charo ore chale bas baatein
Milte saboot hai gawah
Phir bhi kuch na kar paate

Aur ye jitne bhi jo daftar se hai
News chalate bakar bakar ke
Degree wale muft ka samachar banate

Sab kuch hai manoranjan
Koi jal ke mari koi khud hi jali
Jo kal thi pari ab chup hai khadi
Par khabar badal gayi agli ghadi
Fir hue morche kaam chodhke
Jaagi dilli ban gaye hero

Dal gaye status dal gayi selfie
Do din mein phir thinking zero
Chote kapde nahi choti teri soch hai
Tu un mein se hai beta
To tu iss duniya pe bojh hai

Chal ek deal kare
Tu meri bahen main teri bahen
Tujhe meri bahen ka dikhta tann
Aur khudki bahen pe hoti jalan

Phir kyun nazron se
Usko nanga karta hai
Aurat ko chedhta
Niyat ko ganda karta hai

Milta kya hai jab
Tujhko jana hai jail mein
Aur meri bahen bani zinda laash
Tere chote se khel mein

Andar se khush hoon
Meri sagi bahen nahi koi bhi
Mujh ko nahi chinta
Ki kya woh chain se soyegi

Main nahi swarthi
Ye dard mujhko jacha nahi
Hum jaanwar ya napunsak hai
Kyunki mard sala bacha nahi

Aurat bojh nahi
Bojh banaya humne hai
Sati se leke bal vivah
Dahej banaya humne hai
Samaj banaya humne hai
Rivaj banaya humne hai
In auraton ko dabi hui
Awaaz banaya humne hai

औरत लिरिक्स | रफ़्तार

बातें बातें बातें
चारो ओर चले बस बातें
मिलते सबूत है गवाह
फिर भी कुछ ना कर पाते

और ये जीतने भी जो दफ़्तर से है
न्यूज़ चलाते बकर बकर के
डिग्री वाले मुफ़्त का समाचार बनाते

सब कुछ है मनोरंजन
कोई जल के मारी कोई खुद ही जली
जो कल थी परी अब चुप है खड़ी
पर खबर बदल गयी अगली घड़ी
फिर हुए मोर्चे काम छोडके
जागी दिल्ली बन गये हीरो

दल गये स्टेटस दल गयी सेल्फी
दो दिन में फिर थिंकिंग ज़ीरो
छोटे कपड़े नही छोटी तेरी सोच है
तू उन में से है बेटा
तो तू इश्स दुनिया पे बोझ है

चल एक डील करे
तू मेरी बहेन मैं तेरी बहेन
तुझे मेरी बहेन का दिखता तन
और खुदकी बहेन पे होती जलन

फिर क्यूँ नज़रों से
उसको नंगा करता है
औरत को छेड़ता
नियत को गंदा करता है

मिलता क्या है जब
तुझको जाना है जैल में
और मेरी बहेन बनी ज़िंदा लाश
तेरे छोटे से खेल में

अंदर से खुश हूँ
मेरी सग़ी बहेन नही कोई भी
मुझ को नही चिंता
की क्या वो चैन से सोएगी

मैं नही स्वार्थी
ये दर्द मुझको जचा नही
हम जानवर या नपुंसक है
क्यूंकी मर्द साला बचा नही

औरत बोझ नही
बोझ बनाया हमने है
सती से लेके बाल विवाह
दहेज बनाया हमने है
समाज बनाया हमने है
रिवाज बनाया हमने है
इन औरतों को दबी हुई
आवाज़ बनाया हमने है

0 comments :